<

Press Release 1- 10.01.2019-Delhi State

Press Release 1- 10.01.2019-Delhi State

 हमारी लड़ाई तब तक जारी रहेगी जब तक अभिभावकों को और दिल्ली की जनता को न्याय न मिल जाये।

 
स्कूल के बच्चों से उनके अभिभावकों से निजी जानकारी एकत्रित करने के सम्बन्ध में चुनाव आयोग के आदेश का खुला उल्लंघन कर रही है दिल्ली सरकार
 
क्या अब मुख्यमंत्री का काम पानी, बिजली देना, परिवहन व्यवस्था ठीक करना, सीसीटीवी लगवाना नहीं, दिल्ली में विकास का काम नहीं है, अब दिल्ली के मुख्यमंत्री का काम हवा में जो वोट कटा है उसको जुड़वाना रह गया है ?-श्री मनोज तिवारी
 
चुनाव आयोग के मना करने के बाद आज भी स्कूल के बच्चों से डेटा इकट्ठा करके उसका दुरुपयोग झूठे फोन कॉल जैसे काम करने में कर रही है दिल्ली सरकार-विजेन्द्र गुप्ता

मुख्यमंत्री केजरीवाल दिल्ली की जनता का डाटा कलेक्ट करके उसको अपने निजी फायदे के लिए प्रयोग कर रहे हैं
 
नई दिल्ली, 10 जनवरी।  दिल्ली सरकार द्वारा स्कूलों के बच्चों और उनके अभिभावकों के एपिक नंबर, मोबाइल नंबर, नाम पता आदि की निजी जानकारी एकत्रित करने के विरोध में दिए गए चुनाव आयोग के आदेशों का उलंघन करने पर चुनाव आयोग ने दिल्ली सरकार को एक नोटिस जारी किया है जिसमे यह सारी  जानकारी तुरंत मुख्य निर्वाचन आयुक्त को वापिस जमा करवाने को कहा गया है। इस सम्बन्ध में पंत मार्ग स्थित दिल्ली भाजपा के प्रदेश कार्यालय पर एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया जिसे दिल्ली भाजपा अध्यक्ष श्री मनोज तिवारी एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष श्री विजेंद्र गुप्ता ने सम्बोधित किया। इस प्रेस वार्ता में मीडिया प्रभारी श्री प्रत्युश कंठ, सह-प्रभारी श्री नीलकांत बख्शी एवं मीडिया प्रमुख श्री अशोक गोयल देवराहा उपस्थित थे।
 
प्रेस वार्ता को सम्बोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष श्री विजेन्द्र गुप्ता ने कहा कि दिल्ली सरकार शिक्षा निदेशालय ने 11 सितम्बर, 2018 को एक सर्कुलर जारी किया था जिसमे अभिभावकों की निजी जानकारी एकत्रित करने को कहा गया था और यह काम एक निजी एजेंसी द्वारा करवाया जाना था। उन्होंने कहा कि यह निजता के अधिकार का सीधा उलंघन है और इस निजी जानकारी का गलत प्रयोग करने की भाजपा ने आशंका जताई थी तो चुनाव आयोग ने दिल्ली सरकार को ऐसा करने से मना किया था।
 
श्री गुप्ता ने कहा कि चुनाव आयोग के आदेश के बाद मनीष सिसोदिया ने चुनाव आयोग बड़ी ही आपत्तिजनक भाषा में पत्र लिखा और कहा कि आप हमे यह करने से कैसे रोक सकते हैं, हम यह डाटा अभिभावकों से इसलिए ले रहे हैं कि हम ये पता कर सकें कि कहीं बच्चों का पता और अन्य जानकारी तो नहीं बदल गयी है।
 
श्री गुप्ता ने कहा कि 5 दिसम्बर, 2018 को भाजपा का विधायक दल इस सम्बन्ध में चुनाव आयोग के अधिकारीयों से मिला था और पत्र लिखकर केजरीवाल सरकार की शिकायत की थी जिसके बाद उसी दिन चुनाव आयोग ने मनीष सिसोदिया द्वारा दी गयी जानकारी को नकारते हुए दिल्ली सरकार को पत्र लिखा और कहा कि स्कूल या किसी और एजेन्सी के माध्यम से दिल्ली सरकार ऐसा कोई डेटा इकट्ठा नहीं कर सकती यह केवल चुनाव आयोग का अधिकार है।
 
श्री गुप्ता ने कहा कि चुनाव आयोग के आदेश का खुला उल्लंघन कर रही है आम आदमी पार्टी की सरकार। दिल्ली सरकार द्वारा स्कूल के बच्चों से उनके अभिभावकों की जानकारी माँगी जिसके लिए चुनाव आयोग ने उन्हें ऐसा नहीं करने की हिदायत दी थी लेकिन आज भी दिल्ली सरकार द्वारा डेटा इकट्ठा हो रहा है और उसका दुरुपयोग झूठे फोन कॉल जैसे काम करने में कर रही है और चुनाव आयोग के आदेश का खुला उल्लंघन कर रही है।
 
श्री गुप्ता ने कहा कि चुनाव आयोग ने दिल्ली सरकार से 3 मुख्य बातें कही हैं -
 
1. चुनाव आयोग ने कहा कि व्यक्ति का एपिक डिटेल नहीं बदलता वह यथोचित रहता है। उसका व्यक्ति के पते से कोई सम्बन्ध नहीं है।
 
2. दिल्ली सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा 11 सितम्बर, 2018 को इस सम्बंध में जारी सर्कुलर को तुरंत रद्द किया जाए।
 
3. जो भी डेटा उन्होंने इकट्ठा किया है उसको तुरंत मुख्य निर्वाचन आयुक्त को वापिस जमा करवाया जाये। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाये कि यह जानकारी किसी के हाथ न लगे।
 
श्री गुप्ता ने चुनाव आयोग के नोटिफिकेशन का संज्ञान लेते हुए कहा कि इससे 3 बाते साफ हो गयी हैं - पहली यह कि मनीष सिसोदिया ने जो कारण बताया था उसे चुनाव आयोग ने नकार दिया है कि एपिक डिटेल का एड्रेस से कोई सम्बन्ध नहीं है। दूसरा ये कि यह जानकारी वे आगे नहीं ले सकते और तीसरी ये कि जो जानकारी इकट्ठी की है उसे जब्त किया जायेगा और तुरंत मुख्य चुनाव आयुक्त को वापस दिया जाये।
 
श्री गुप्ता ने कहा कि हमारी मांग है कि गलत उद्देश्य से लोगों को प्रताड़ित करने के लिए ली गयी जानकारी का दुरूपयोग करने पर आम आदमी पार्टी का चुनाव चिन्ह जब्त किया जाये और इस पार्टी की मान्यता खत्म की जाये।
 
इस मुद्दे पर दिल्ली भाजपा अध्यक्ष श्री मनोज तिवारी ने कहा कि आम आदमी पार्टी की सरकार हर वो काम कर रही है जिससे लोगों को भ्रम में डाल कर के, नीतियों और कानून का उलंघन करके अपने को खड़ा रखें। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में हमारी ये जागरूकता इनके झूठतंत्र को रोकने में कामयाब होगी। श्री तिवारी ने कहा कि हमसे इस सम्बन्ध में नजाने कितने अभिभावकों ने, विद्यार्थियों ने अपनी बातें साझा की और वह ये बताते हुए बहुत दुखी दिखे कि जबरन आम आदमी पार्टी लोगों को प्रताड़ित कर रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल दिल्ली की जनता का डाटा कलेक्ट करके उसको अपने निजी फायदे के लिए प्रयोग कर रहे हैं।
 
श्री तिवारी ने कहा कि स्कूल के बच्चों से उनकी और उनके अभिभावकों-रिश्तेदारों की एपिक डिटेल, मोबाइल नंबर आदि की जानकारी लेने के सम्बन्ध में ये जो आर.टी.आई. निकली है, जो नोटिफिकेशन आया है उसके माध्यम से हमने निश्चय किया है कि ऐसी बातें लोगों को बताई जाएँ, क्योंकि कभी-कभी लोगों के ध्यान से निकल जाती है।
 
श्री मनोज तिवारी ने आम आदमी पार्टी द्वारा बुधवार को की गयी प्रेस वार्ता का जिक्र करते हुए बताया कि आम आदमी पार्टी ने वार्ता में कहा है कि हाँ हम फोन कर ही रहे हैं। श्री तिवारी ने कहा कि उन्होंने ये तो मान लिया है कि वो फोन कर रहे हैं लेकिन अब सवाल ये उठता है कि क्या वोट कटवाने और जुड़वाने का काम कोई व्यक्तिगत स्तर पर कर सकता है क्या? नहीं कर सकता। उन्होंने बताया कि यह चुनाव आयोग की एक प्रक्रिया है, उसी के तहत ही वोट जुड़ सकता है और वोट कट सकता है।
 
श्री तिवारी ने कहा कि केजरीवाल ने चुनाव आयोग पर आरोप लगाते हुये कहा था कि 30 लाख वोट दिल्ली से काट दिये गये हैं लेकिन इसके विपरीत चुनाव आयोग ने बयान जारी कर कहा कि 1.5 लाख नये मतदाता सूची में शामिल किये गये हैं। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार के लोग लोगों को फोन करके उनके वोट काटने का आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं और कह रहे हैं कि केजरीवाल ने जुड़वा दिया है।
 
श्री तिवारी ने कहा कि क्या अब मुख्यमंत्री का काम पानी, बिजली देना, परिवहन व्यवस्था ठीक करना, सीसीटीवी लगवाना नहीं, दिल्ली में विकास का काम नहीं है, अब दिल्ली के मुख्यमंत्री का काम हवा में जो वोट कटा है उसको जुड़वाना रह गया है ?
 
श्री तिवारी ने कहा कि चुनाव आयोग ने जो सर्कुलर जारी किया है उसका कनेक्शन लोगों को आ रहे फोन से है। जो डाटा लिया जा रहा है उसका अधिकार ही उन्हें नहीं है केवल लोगों को प्रताड़ित करने के लिए लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अधिकतर फोन उन्ही को आ रहे हैं जिन्होंने स्कूल में अपनी निजी जानकारी देने का विरोध किया था।
 
श्री तिवारी ने हर्ष विहार में लोगों की सीवर की मांग का जिक्र करते हुए कहा कि जिन सीवर का हमने राष्ट्रपति शासन के दौरान उद्घाटन किया था वो 2015 में आम आदमी पार्टी की सरकार आने के बाद बंद कर दिए गए। उन्होंने मीडियाकर्मियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि अगर आप हर्ष विहार जायेंगे तो वहां के लोगों के मुँह से अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ बददुआएं निकल रही हैं। उन्होंने बताया कि सारी गलियां खोद दी गयी हैं और उसको ठीक करने के लिए कमीशन मांगी जा रही है।
 
अंत में श्री मनोज तिवारी ने कहा कि हम चुनाव आयोग तक जायेंगे और इनकी सारी कमियों की चर्चा करेंगे और आम आदमी पार्टी के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग करेंगे। उन्होंने कहा कि हमारी लड़ाई तब तक जारी रहेगी जब तक अभिभावकों को और दिल्ली की जनता को न्याय न मिल जाये।

Our fight will continue till the parents and the people of Delhi get justice

 

AAP Government is openly violating the orders of EC , by collecting personal

information of students and their parents

 

Delhi CM, is it not your duty to provide Water, Power, transport system, installation of CCTVs, other development works in Delhi ? - Manoj Tiwari

 

Delhi Government is misusing the data collected from the school children for making false phone calls, even after being refrained by the EC- Vijender Gupta

 

Chief Minister Kejriwal is using the personal data of the people of Delhi for his Personal Gain.

 

New Delhi, 10th January.  Election commission had issued notice to Delhi government for violating its orders for refraining from collecting private information like EPIC number, mobile number, name, address etc of parents of children studying in Delhi Government schools. It had also been  directed that  the collected information should be returned to the  Election Commission. A press conference was held in this connection at Delhi BJP office which was addressed by Delhi BJP President Shri Manoj Tiwari and LOP Shri Vijender Gupta. Media Incharge Shri Pratyush Kanth, Co-Incharge Shri Neelkanth Bakshi & Media Head Shri Ashok Goel Devraha were also present.

 

Addressing the media persons Lop Shre Vijender Gupta said that the Directorate of Education under Delhi Government had issued a Circular on 11 September 2018 for collecting Private information of the parents and this work was to be done by Private Agency. He said it is violation of right to privacy and BJP had also expressed its apprehensions of misuse of the data so collected. The Election Commission had directed Delhi government to refrain from collecting such information.

 

Shri Gupta said that in reply to the directions of Election Commission Dy CM Manish Sisodia had used very objectionable language and had said that how the commission could stop us from doing so. We are collecting this data from the parents, we confirm whether the address and other information of the children have changed or not.

 

Shri Gupta further said that on 5th December 2018 the BJP legislators had met the officers of Election Commission and complained in writing against Kejriwal Government and the same day the Election Commission contradicted the claims of Manish Sisodia and directed the Delhi Government not to collect any data through the schools or any private agency because only the EC has jurisdiction over it.

 

Shri Gupta also said that AAP Government is openly violating the orders of EC. Although the EC has refrained Delhi Government from collecting data about the parents yet Delhi Government is collecting such information and misusing it for making false phone calls and openly violating the orders of EC.

 

Sh. Gupta pointed out that the EC has Clarified three issues to Delhi Government.

 

1.      EC said that the EPIC details of the person do not change.

It is not related to the address of the person.

 

2.      The circular issued by Delhi Govt. on 11 Sept 2018 be cancelled immediately.

 

3.      The data already collected should be returned to the election commission and it should be ensured that this data is not accessed by other person.

 

In view of the notification of the EC, Shri Gupta said that now it has become clear firstly that the reason stated by Manish Sisodia has been rejected by the EC and said that EPIC details are not connected of the address with the person. Secondly they cannot further collect such information and thirdly if collected it should be returned back to the EC.

2/-

 

- - 2 - -

 

Shri Gupta said that we demand that election symbols of the Aam Aadmi Party should be freezed and the recognition of the party we cancelled for collecting personal information for harassing the people.

 

On this issue Delhi BJP President Shri Manoj Tiwari said that Aam Aadmi Party Government does everything to mislead the people and violate the laws and policy to promote itself. He said that in this situation our vigilance will succeed in preventing this falsehood. Shri Tiwari said that many parents, students have contacted me in this connection and complaint that the Aam Aadmi Party is harassing us. He said that Chief Minister Kejriwal is using this date for his own purpose.

 

Shri Tiwari further said that information received through the RTI, Notification about collecting details, mobile number etc of the parents should be given to the people also because sometimes they forget it.

 

Referring to the press conference by AAP on last Wednesday Shri Tiwari informed that the Aam Admi Party has admitted that they are making phone calls, now the question arises that whether addition or deletion of votes could be done at personal level. He clarified this is done under a process by the Election Commission and only after that votes can be added or deleted.

 

Shri Tiwari pointed out that Kejriwal had alleged that EC had deleted 30 lakhs names from the voter list but on the contrary the EC in its statement said that 1.5 lakh new voters have been added. He said that Kejriwal accuces BJP of deleting the votes and claiming that he has got their names added to the voter list. Sh Tiwari asked the Delhi CM that is it not your duty to provide Water, electricity, transport system, installation of CCTVs, other development works in Delhi? Now your duty is only to falsely add and delete the names of voters in the voter list.

 

Shri Tiwari said that the circular issued by the EC is related to the phone calls being made to the people. They don’t have the right to collect the data which they have collected. This has been done only to harass the people. He claimed that most of the phone calls have been made to the persons who had protested to against sharing their personal information in the schools.

 

Referring to the demand of Sewer in Harsh Vihar, he said that the Sewer line which was inaugurated during the President’s Rule in Delhi has been stopped by AAP Govt in 2015. Addressing the Media Persons he said that if you go to Harsh Vihar , you will find people cursing Arvind kejriwal. All the lanes have been dug up and commission is being demanded for repairing it.

 

Finally, Shri Manoj Tiwari said that We will go the EC for discussion on it and demand stern action against AAP. Our fight will continue till the parents and the people of Delhi get justice.

मीडिया विभाग

9999019621



Media Department 

9999019621